मसालों और ड्राई फ्रूट के दामों में और होगी बढ़ोतरी Dry fruits and spices rates

मसालों ओर ड्राई फ्रूट्स Dry fruits and spices rates के दामों में बढ़ोतरी होगी या गिरावट , सभी विस्तृत जानकारी आज के इस उक्त लेख के माध्यम से आप तक प्रदान करने की कोशिश की है ।

लालमिर्च के भाव कब बढ़ेगा 2023

गुंटूर समेत आंध्र प्रदेश तथा तेलंगाना की मंड़ियों में लालमिर्च की आवक सीमित ही बनी हुई है। मानसून सीजन चालू होने के कारण बिक्री में भी सुस्ती छाई हुई है। आगामी दिनों में भी लालमिर्च सुस्त ही बनी रहने के आसार हैं।आप सुधि पाठकों को समय-समय पर लालमिर्च की तेजी-मंदी के सम्बन्ध में नवीनतम जानकारियां मिलती रहती हैं और उन्हें इससे लाभ भी होता है। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में उत्तरी और मध्य भारत के विपरीत अभी मानसून ने अपना रौद्र रूप धारणा नहीं किया है।

हालांकि वहां भी वर्षा चालू है। इसके बाद भी गुंटूर मंडी में लालमिर्च की करीब 50 हजार बोरियों की आवक होने की जानकारी मिली। यह सामान्य से नीची मानी जा रही है। गुंटूर समेत आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की प्रमुख मंड़ियों में लालमिर्च की कीमतों में हाल ही में आई तेजी के बाद भी इसकी आवक सामान्य से नीची बनी हुई है। इससे पूर्व आवक बढ़ती हुई करीब करीब 1.50 लाख बोरियों की होने लगी थी। बहरहाल, आवक तुलनात्मक रूप से नीची होने के बाद भी दिसावरों की मांग घटने से लालमिर्च की चुनिन्दा किस्मों में मामूली मंदी आने लगी है। मध्य प्रदेश की फसल आने में अभी समय है। इसके समर्थन में स्थानीय थोक किराना बाजार में 334 नंबर लालमिर्च हाल ही में 500 रुपए और तेज हुई है।

लाल मिर्च में तेज़ी कब आयेगी

यहां पर 334 नंबर लालमिर्च फिलहाल 24,000/26,500 रुपए प्रति क्विंटल के पूर्वबंद स्तर पर ही रुकी हुई है। इससे पूर्व इसमें 2 हजार रुपए का उछाल आया था। इसका प्रमुख कारण यह है कि बरेली से आवक घट गई है और एमपी की फसल शुरू होने में अभी समय शेष है। इसके अलावा, भारी वर्षा के कारण उत्तर प्रदेश के कुछ उत्पादक क्षेत्रों में फसल को नुकसान भी होने की सूचनाएं आ रही हैं। चालू सीजन के दौरान लालमिर्च की नई फसल का उत्पादन भी अब अच्छा होने का अनुमान व्यक्त किया जाने लगा है। इससे पूर्व, मध्य प्रदेश में भी

लौंग की कीमतों में क्या फर्क पड़ेगा बाजार का ??

घटी कीमत पर भी लौंग का उठाव सुस्त ही बना हुआ है। इसके फलस्वरूप यहां लौंग 1010 रुपए प्रति किलोग्राम के पूर्वबंद स्तर पर ही जमी रही। हाल ही में इसमें 10 रुपए की मंदी आई थी। नवीनतम कीमत भी सामान्य से काफी ऊंची होने की वजह से बाजार की धारणा प्रभावित हो रही है। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर लौंग तेजी के आसार नहीं हैं।

छोटी इलायची का बाजार Dry fruits and spices rates

बढ़ी हुई कीमत पर भी छोटी इलायची की बिक्री सुस्त पड़ती दिख रही है। यही वजह है कि यहां छोटी इलायची साढ़े सात एमएम 1675 रुपए प्रति किलोग्राम के पूर्वस्तर पर ही जमी रही। हाल ही में इसमें 25 रुपए की तेजी आई थी। आज आयोजित हुई ग्रीन कार्डमम ट्रेडिंग कंपनी नीलामी में आवक बढ़कर 29,091 किलोग्राम की होने की सूचना मिली। आवक तुलनात्मक रूप से ऊंची होने के बाद भी लिवाली मजबूत ही बनी होने से इसकी औसत नीलामी कीमत उछलकर 1424.30 रुपए प्रति किलोग्राम हो जाने की जानकारी मिली। इससे पूर्व 15 जुलाई को हुई इस नीलामी में यह कीमत 1329.38 रुपए थी। नई फसल को लेकर व्यक्त की जा रही चिंताओं से बाजार की धारणा प्रभावित हो रही है। आने वाले एक-दो दिनों में हाजिर में छोटी इलायची मंदी होने का डर नहीं दिख रहा है।

काली मिर्च का भाव क्या है ?

बढ़ी हुई कीमत पर भी कालीमिर्च का उठाव और बढ़ गया है। इसके परिणामस्वरुप यहां कालीमिर्च मरकरा 10 रुपए और तेज होकर 605 रुपए प्रति किलोग्राम के स्तर पर जा पहुंची। एक दिन पूर्व इसमें 30-40 रुपए की तेजी आई थी। कोच्चि में साप्ताहिक अवकाश रहा लेकिन इससे पूर्व वहां इसकी आवक नगण्य होने तथा कीमत एक दिन पूर्व के स्तर पर ही बनी होन े की सूचना मिली थी। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में कालीमिर्च मजबूत ही बनी रह सकती है।

मजबूती बढ़ी हुई कीमत पर भी सौंठकी बिक्री मजबूत ही बनी हुई है। इसके फलस्वरूप यहां सौंठ सामान्य 3 हजार रुपए उछलकर 41 हजार रुपए प्रति क्विंटल के अभी तक के सर्वोच्च स्तर पर जा पहुंची। इससे पूर्व भी इसमें 4-5 हजार रुपए का उछाला आया था। साप्ताहिक अवकाश के कारण कोच्चि में कामकाज बंद रहा परन्तु इससे पूर्व वहां इसकी आवक नगण्य होने तथा कीमत एक दिन पूर्व के स्तर पर ही बनी होने की खबर मिली थी। अदरक की ऊंची कीमत तथा आपूर्ति का अभाव होने से बाजार की धारणा प्रभावित हो रही है। आने वाले एक-दो दिनों में हाजिर में सौंठ मजबूत ही बनी रह सकती है।Dry fruits and spices rates

पिस्ता का रेट price of pistachios

बढ़ी हुई कीमत पर पिस्ते की बिक्री सुस्त बनी हुई है। यही वजह है कि यहां पिस्ता पेशावरी 2050 रुपए प्रति किलोग्राम के पूर्वस्तर पर ही स्थिर बना रहा। हाल ही में इसमें 50 रुपए की तेजी आई थी । यद्यपि हाल ही में तापमान में थोड़ी कमी आई है लेकिन हैराती पिस्ते में आई तेजी से बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में पिस्ता मजबूत ही बना रह सकता है।

जीरा भाव में तेज़ी कब आयेगी 2023

बढ़ी हुई कीमत पर जीरे का उठाव सुस्त पड़ता नजर आ रहा है। इसके परिणामस्वरूप यहां जीरा सामान्य 68,500 रुपए प्रति क्विंटल के पूर्वबंद स्तर पर अपरिवर्तित बना रहा। बीते दिन इसमें 500 रुपए की तेजी आई थी। ऊंझा में जीरे की करीब 3-4 हजार बोरियों की आवक होने तथा कीमत बीते दिन के स्तर पर ही बनी होने की जानकारी मिली। वायदा में साप्ताहिक अवकाश रहा लेकिन बीते दिन सटोरियों की लिवाली घटने से सक्रिय वायदा 110 रुपए या 0.18 प्रतिशत नरम होकर 60,800 रुपए पर आ गया था। इससे बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है। आने वाले एक-दो दिनों में हाजिर में जीरे में लंबी मंदी का डर नजर नहीं आ रहा है।

जीरा बढ़ी हुई कीमत पर जीरे का उठाव सुस्त पड़ता नजर आ रहा है।

इसके परिणामस्वरूप यहां जीरा सामान्य 68,500 रुपए प्रति क्विंटल के पूर्वबंद स्तर पर अपरिवर्तित बना रहा। बीते दिन इसमें 500 रुपए की तेजी आई थी। ऊंझा में जीरे की करीब 3-4 हजार बोरियों की आवक होने तथा कीमत बीते दिन के स्तर पर ही बनी होने की जानकारी मिली। वायदा में साप्ताहिक अवकाश रहा लेकिन बीते दिन सटोरियों की लिवाली घटने से सक्रिय वायदा 110 रुपए या 0.18 प्रतिशत नरम होकर 60,800 रुपए पर आ गया था। इससे बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है। आने वाले एक-दो दिनों में हाजिर में जीरे में लंबी मंदी का डर नजर नहीं आ रहा है।

काजू बाज़ार भाव kaaju rate today

बढ़ी हुई कीमत पर भी काजू की बिक्री सुस्त ही बनी हुई है। इसके फलस्वरूप यहां काजू 180 नंबर 1070 रुपए प्रति किलोग्राम के पूर्वस्तर पर ही जमा रहा। हाल ही में इसमें 20-25 रुपए की तेजी आई थी। खपत का सीजन नहीं है। हालांकि प्रमुख उत्पादक क्षेत्रों में मानसून चालू होने से बाजार की धारणा प्रभावित हो सकती है। आगामी एक-दो दिनों में हाजिर में काजू में सुस्ती बनी रह सकती है

आज का इंदौर मंडी भाव ; गेंहू के रेट में आई तेजी

आज का सरसों भाव ( Sarson rates today ) sarson ka bhav

बड़ी इलायची के रेट में उछाल

उत्पादक व वितरक मंडियों में बड़ी इलायची में भारी शॉर्टेज बनने एवं आने वाली फसल कमजोर होने से बाजार बढ़ता जा रहा है। उत्पादक मंडियों की स्थिति को देखते हुए आगे चलकर भरपूर 150 रुपए और तेज लग रहा है।इस बार नेपाल में आने वाली फसल को भारी क्षति हुई है तथा वहां पहले ही 23 प्रतिशत बड़ी इलायची के दाने झड़ गए हैं। दूसरी ओर पुराने माल का स्टॉक वहां की मंडियों में समाप्त हो चुका है। घरेलू उत्पादक मंडियों में माल का प्रेशर नहीं है तथा भूटानी माल जो सस्ता आकर मंडियों की खपत की पूर्ति करता था, वह भी इस बार बहुत कम आया है। गौरतलब है कि नेपाल, भूटान दोनों ही देशों में इस बार फसल कम होने से सस्ते भाव पर भारतीय बाजारों में बिकने वाली बड़ी इलायची की उपलब्धि समाप्ति की ओर है।

यही कारण है कि चालू सप्ताह के अंतराल 145/150 रुपए की बढ़त बन गई है। पिछले महीने यहां मीडियम क्वालिटी की बड़ी इलायची 670 रुपए बिकने के बाद 900 रुपए प्रति किलो के आसपास बिक रही है। गत वर्ष इन दिनों यह 610 रुपए तक नीचे में बिक गई थी। इस तरह हम देख रहे हैं कि 50 प्रतिशत के करीब भाव ऊंचे हो चुके हैं। आने वाली फसल में भी गंगटोक – सिलीगुड़ी लाइन में बड़ी इलायची की फली में बीते सीजन कीड़े लग जाने से कुल उपलब्धि 40 प्रतिशत कम का अनुमान आ रहा है। दूसरी ओर सस्ते भाव में भूटान से आने वाली बड़ी इलायची पड़ते के अभाव में वहीं खप रही है ।

विदेशी बाजारों में रुझान

नेपाल का माल हल्की क्वालिटी का पाकिस्तान, अफ़गानिस्तान सहित अन्य देशों में जा रहा है, इन सारी परिस्थितियों से भारतीय बाजारों में हल्के माल की उपलब्धि इस बार सीजन के शुरुआत से ही कम रहेगी। नई फसल आने में अभी 3 महीने का पूरा समय पड़ा हुआ है। तथा इसमें पखवाड़े से सॉरी मांग बढ़ गई, जिसमें बड़ी इलायची की खपत सामान्य की अपेक्षा 10 प्रतिशत अधिक रहती है। श्रावण के दोनों महीने जबरदस्त खपत वाले है, इन सारी परिस्थितियों को देखते हुए बड़ी इलायची के व्यापार में कोई रिस्क नहीं दिखाई दे रहा है।

अभी पिछले महीने ऊपर 670 रुपए प्रति किलो बिकने के बाद बाजार 900 रुपए पर पहुंच गयी है, इन भावों में 2 दिनों से बिक्री अच्छी है, कुछ कारोबारी 920 रुपए भी बोलने लगे हैं तथा इसमें आगे मांग एवं उत्पादक मंडियों हाजिर स्टॉक को देखते हुए 150 रुपए प्रति किलो की और तेजी लग रही है।

You cannot copy content of this page