त्यौहारी सीजन के चलते सरसों तेल सरसों खल और सरसों का भाव बढ़ा Sarson ka bhav

सरसों का भाव कब साल (सरसों का भाव बढ़ा) 2023 के अंदर त्योहारी सीजन के कारण ग्राहकी निकलने तथा स्टाकिस्टो की बिकवाली घटने लारेंस रोड पर सरसों के भाव 5500/5550 रुपए प्रति क्विंटल पर टिके रहे। नजफगढ़ मंडी में लूज में इसके भाव 5000 / 5100 रुपए प्रति कुंतल बोले गए। जयपुर में बिकवाली घटने 42 प्रतिशत कंडीशन सरसों के भाव 5700 रुपए तथा आगरा मंडी में 6100 रुपए प्रति कुंतल प्रति कुंटल बोले गए। देश की विभिन्न मंडियों में सरसों की आवक 4.5 लाख बोरी के लगभग की रही। आने वाले दिनों में इसमें मंदे की उम्मीद नहीं है

सरसों खल का भाव तेज़ी मंदी

सप्लाई घटने एवं पशु आहार वालों की मांग से सरसों खल के भाव 2500/2750 रूपए प्रति क्विंटल मजबूत रहे। सरसों में आई तेजी के कारण लोकल मिलों में उत्पादन ठप्प हो गया है। हापुड़ मंडी में इसके भाव 2900/3000 रुपया प्रति क्विंटल बोले गए। जयपुर में बिकवाली घटने से इसके भाव 2550/2600 रुपए प्रति क्विंटल बोले गए। बाजार सीमित दायरे में घूमता रह सकता है।

सरसो तेल में लौटी तेज़ी, सरसों का भाव बढ़ा

आपूर्ति कमजोर होने तथा त्योहारी सीजन के कारण मांग निकलने से हाल ही में सरसों तेल के भाव 800 रूपए प्रति कुंटल बढ़ गए। भविष्य में भी इसमें गिरावट की संभावना नहीं है।सुधी पाठकों को समय-समय पर सरसों तेल की तेजी मंदी के बारे में खबरें पढ़ने को मिलती रहती है इसी तारतम्य ताजा सर्वे के अनुसार विदेशी तेलों में तेजी का रुख जारी रहने एवं आपूर्ति कमजोर होने से जुलाई माह के दौरान सरसों तेल के भाव निचले स्तर से 800 रुपए बढ़कर 10800 रुपए प्रति कुंतल हो गए।

सरसों तेल टीनों में 100 रुपए बढ़कर 1750/1975 रुपए हो गया। आपूर्ति घटने से उक्त अवधि के दौरान दादरी मंडी में इसके भाव 800 रुपए बढ़कर 10700 रुपए प्रति कुंटल हो गए। बिहार, बंगाल की मांग से जयपुर सरसों तेल कच्ची घानी के भाव निचले स्तर से 800 रुपए बढ़कर 10800 रूपए तथा गंगानगर में 10900 रूपये प्रति कुंतल हो गए। उक्त अवधि के दौरान विदेशी तेलों में आयातको की बिकवाली घटने से सोयाबीन तेल में कीमतें उछल गई।

सरसों का उत्पादन और एमएसपी मूल्य

फलस्वरूप सरसों तेल में तेजी को बल मिला। सरसों का उत्पादन मुख्यत: राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, बिहार, बंगाल इत्यादि राज्यों में होता हैं। देश में चालू सीजन के दौरान में सरसों का उत्पादन 113 लाख टन के लगभग अनुमान व्यक्त किया गया है। जबकि सरकारी अनुमान 128 लाख टन से अधिक होने का व्यक्त किया गया है। देश के विभिन्न मंडियों में सरसों के भाव लूज में 4900/5000 रुपए प्रति कुंतल बिक रहे हैं जोकि समर्थन मूल्य से काफी नीचे है।

उल्लेखनीय है कि सरसों का समर्थन मूल्य 5425 रूपये है। वर्तमान में सरसों की कीमतें तथा आपूर्ति को देखते हुए आने वाले समय में सरसों तेल की कीमतों में विशेष तेजी मंदी की संभावना नहीं है बाजार सीमित उतार चढ़ाव के बीच में घूमता

Read Also This –

मसालों और ड्राई फ्रूट के दामों में और होगी बढ़ोतरी Dry fruits and spices rates

आज का इंदौर मंडी भाव ; गेंहू के रेट में आई तेजी

Dahod Solapur mandi rates today

You cannot copy content of this page